स्याह इंद्रधनुष और चाँदनी रातें

I think therefore I am …… I think !!! Cut the crap, I am here to write so that I get loads of traffic and I feel important ……

कमीने (फ़िल्म नहीं, मेरी कविता)

मैं भी भूल गया वो बात,
तुम भी भूले ही होगे
अपने आप से किए हुए ऐसे वादे,
अपना जीवन समर्पित कर देने के ।

समर्पण, विपन्न बीलकों का जीवन
संवार देने में स्वयं का,
या आश्रय देने का निराश्रित
कई बडे़-बूढों को कहीं पर ।

वादे, जो किये थे हमने
अपने आप से हर बार,
चाय की दुकान पर अपने आगे हाथ फैलाए
नन्हे हाथों को देख कर ।

इरादे, जो बनाए थे हमने
४० में रिटायर हो जाने के, और,
शहर से दूर किसी पहाड़ पर हरियाली में
बच्चों के लिये मुफ़्त स्कूल खोलेने के ।

शर्म आयी होगी तुमको भी
रेल्वे की कोच में घुटनों पर रेंग के,
झाड़ू लगा भीख मांगने वाले को देख,
अपने पास इतना कुछ होने पर ।

फिर सोचा होगा तुमने जानबूझ कर,
कल की मीटिंग के बारे में,
ऑफ़िस, नये खुले मॉल के बारे में,
और किया होगा एक वादा फिर से ।

वादा ४० में रिटायर होने का,
स्कूल का, वृद्धाश्रम का,
सोचा होगा नन्हें भिखारी हाथों के बारे में,
और चल दिये होगे आगे – कमीने ।

Filed under: कविता, Kavita, Poetry, Random Thoughts, voice, , , , , ,

ओ नंगे !!!

ओ नंगे ! हां तुम…… तुम नंगे,
अरे! फिर भी पढ़े जा रहे हो तुम अभद्र
नहीं मानोगे क्या तुम ?
तो सुनो तुम मनुष्य निर्वस्त्र !

तुम नग्न हो क्योंकि निर्लज्ज,
कह तो दिया, निर्लज्ज हो तुम,
मनुष्यों का अनादर करने में
दम्भी, आनन्द पाते हो तुम ।

रखो हृदय पर हाथ, सत्य कहो,
अधीनस्तों का अभिमानवश
दमन कर तुमने क्या,
नहीं छुआ अभिमान का उत्कर्ष ?

क्या तुम ठीक वैसे ही नहीं हो,
नगर भ्रमण करते नग्न विक्षिप्त से,
अपने आप ही हंसते हुए
मैले से, नंगे, सब लोगों मे घृणित से ?

Filed under: आवाज़, कविता, Hindi Poetry, Kavita, voice, , , ,

Every night when I touch you my child

Every night when I feel you with my hand,
In your mother’s womb when you flick and bend,
I touch her belly where I can feel you move,
I can feel you; can you feel me too ?

My little one I await you to come,
to take you in arms – my good-luck charm,
to come back home from worldly bother,
to kiss you only as can a father.

Filed under: Child, English Poetry, ,

Burning Ganga

गंगा तुम क्यों जलती हो,
क्या उन पापों से जो धोए तुमने ?
या देख कर उन पापों को
जो होने को तैयार दिलों में ?

Filed under: कविता, Photographs, voice, , ,

निशा प्रिया – २

तुमसे दूर यहाँ भी साँझ ढलती है,
रात के किनारे पर अब टहलती है ।
उसके आँचल में बँधा तुमसे दूरी का अहसास,
बढ़ता जाता है, छोड़ती वह गहरे प्रश्वास ।

रात्रि में मिल जाने को तत्पर शाम,
खुद पर ओढ़ती हुई धीरे से रंग श्याम,
मेरे चारों ओर रात्रि का करती आलिंगन,
उदित होता पीतवर्ण पूर्ण चन्द्र; तेरा कंगन ।

गिर कर मुझपर बहतीं चन्द्रकिरणें मुक्ताभ,
मैं ज्योतिहीन; नहीं तेरे स्निग्ध आलिंगन की आभ ।
साँझ शरण श्याम निशा की श्याम वर्ण करती वरण,
मैं अनिमेष देखता युगल को परस्पर पाते शरण ।

Filed under: कविता, Hindi Poetry, Kavita, Poetry

निगाहों के सपने – चाँदनी की आवाज़

यह लिख भेजा था उसने मुझे, चाँदनी ने !

सपने ये निगाहों के सच हों न हों,
ज़िन्दगी मे हम करीब हों न हों ।

ऐ दोस्त तुझे रखेंगे सदा इस दिल में,
तेरे लिये दिल में मेरे लिये जगह हो न हो ।

Filed under: कविता, Hindi Poetry, Kavita, Poetry, SMS,

इन्द्रधनुष का अन्धेरा कोना

ए इन्द्रधनुष
रंग कई
तूने देखे
पर क्यों
तू स्याह रहा ?

क्यों तेरे
हर ओर सदा
रंग रहे
कई मगर
अंधियारे से तू घिरा रहा ?

देता है तू हरदम
और चाह
बहुत है पाने की
पर तुझको क्यों
कुछ नहीं मिला ?

ओस की बूँदें
किरण सूरज की
कुछ क्षणों
को मिलतीं हैं
तू बनता है

और खो जाता है
कुछ देर में
पता नहीं
कौन से
स्याह अन्धेरे कोने में

Filed under: कविता, Hindi Poetry, Kavita, Poetry

दिल तू दफ़न हो जा

थोड़ा चुप रहो ए दिल
तुम क्यों बोल पड़ते हो बेवजह
तुम गलत होते हो सदा
हर मौके पर हर जगह ।

तुम्हें नहीं मौका
और ना तुम्हें हक है कोई
खामोश रहो और सुनो
हरदम सबकी कही ।

तुम बेजान बनो और
रहो दफ़न सदा
खाके बदन में मेरे बनकर
मुर्दे का सहारा मुर्दा ।

Filed under: कविता, दिल, Hindi Poetry, Kavita, Poetry

मैं न सुन पाया

किस दुःश्चिन्ता में हृदय तुम्हारा
रेखाऎं कई तुम्हारे मुख पर उकेरता,
तुम कहतीं नहीं कुछ मुझसे
पर मैं रेखाऎं पढ़ सकता हूँ ।

पीड़ बैठी, नीढ़ बना हृदय में
मुस्कान से लीपती तुम उसे,
तुम आँखें बन्द रखा करो,
मैं खिड़कीयों से झाँक लेता हूँ ।

मेरे प्रेम से लिखे शब्दों को पढ़ कर,
जब तुम्हारे नयनों से बहा था नीर,
क्यों मैं यह नही कह पाया कि मैं
अश्रुओं का कहा सुन लेता हूँ ।

Filed under: Uncategorized

Nothing Remains !

Nothing remains ! Everything changes; fragrances fade away, the Sun sets, and the day falls into night.

Everyone has a free will and not even God interferes there. Saints of all ages have preached; love liberates, it does not bind. God liberates, so why should I not ?

May their be peace in all hearts !

Filed under: Uncategorized

स्याह इन्द्रधनुष – चांदनी रात

प्रियवर, इस ब्लॉग का प्रयोग मैं अपने आप को अभिव्यक्त करने के लिये करता हूं और आप का स्वागत है मेरे अन्दर झांक कर देख लेने के लिये ।
आम तौर पर मैं कविता के माध्यम से अपने आपको व्यक्त करता हूं, मैं हिंदी का पंडित नहीं हूं, त्रूटि हो जाने पर कृपया उसे मेरे ध्यान में लायें एवं मुझे क्षमा करें ।

Kerala - God's Own Country

Death – By Grey Rainbow

There is so much that we think we will be able to do in this life,
there is so much we want to believe we will accomplish.
And then comes death, suddenly, it comes to the person closest to your heart.
There is nothing after that, no dreams, no desires, there is nothing to be accomplished. One thing remains :
TIME - and you don't know how to kill it.

GOD

इस घट अन्तर बाग बगीचे,
इसी में सिरजनहारा|
इस घट अन्तर पारस मोती,
इसी में नौ लख तारा|
इस घट अन्तर सात समन्दर,
इसी में उठत फ़ौव्वारा|
इस घट अन्तर अनहत गूंजे,
इसी में सांई हमारा|

Kabir - God lives within, not without

कारवां गुज़र गया

हाथ थे मिले कि जुल्फ चाँद की सँवार दूँ,
होठ थे खुले कि हर बहार को पुकार दूँ,
दर्द था दिया गया कि हर दुखी को प्यार दूँ,
और साँस यूँ कि स्वर्ग भूमी पर उतार दूँ,
हो सका न कुछ मगर,
शाम बन गई सहर,
वह उठी लहर कि दह गये किले बिखरबिखर,
और हम डरेडरे,
नीर नयन में भरे,
ओढ़कर कफ़न, पड़े मज़ार देखते रहे।
कारवाँ गुज़र गया, गुबार देखते रहे!

(c) - श्री गोपाल दास नीरज ।

Blog Stats

  • 38,256 hits

Add This

Bookmark and Share

Me On Twitter